नौसेना में नए फ्लैग ऑफिसर सी-ट्रेनिंग ने कार्यभार संभाला

44

रियर एडमिरल राजेश पेंढारकर, एवीएसएम, वीएसएम ने फ्लैग ऑफिसर सी-ट्रेनिंग (एफओएसटी) के रूप में पदभार ग्रहण कर लिया। वे राष्ट्रीय रक्षा अकादमी के पूर्व छात्र हैं और जनवरी 1987 में भारतीय नौसेना में नियुक्त हुए थे। अधिकारी रक्षा सेवा स्टाफ कॉलेज, वेलिंगटन, नौसेना युद्ध कॉलेज, करंजा, और नौसेना कमान कॉलेज, न्यूपोर्ट, रोड आइलैंड, यूएसए से स्नातक हैं। उन्होंने रक्षा और सामरिक अध्ययन में स्नातकोत्तर डिग्री भी प्राप्त की है।
फ्लैग ऑफिसर एंटी-सबमरीन वारफेयर (एएसडब्ल्यू) विशेषज्ञ हैं। उन्होंने अपने विशिष्ट नौसैनिक कैरियर के दौरान दक्षिण कोरिया के मसान में ऑफ शॉर पैट्रोल वेसल आईएनएस सुभद्रा के कमिशनिंग क्रियू, महाराष्ट्र नेवल एरिया फ्लैग ऑफिसर कमांडिंग में फ्लैग लेफ्टिनेंट के रूप में अनेक चुनौतीपूर्ण पदों की जिम्मेदारी निभाई है। उन्होंने राष्ट्रीय रक्षा अकादमी में प्रशिक्षक, भारतीय नौसेना के जहाजों-डुनागिरी और गंगा के एएसडब्ल्यू अधिकारी और हथियार विश्लेषण इकाई में विश्लेषण अधिकारी के रूप में भी काम किया है। नौसेना में उनके अन्य कार्यकालों में मिसाइल कोरवेट आईएनएस किरपान और मिसाइल विध्वंसक आईएनएस, मैसूर के कार्यकारी अधिकारी, मिसाइल कोरवेट आईएनएस कोरा, स्टील्थ फ्रीगेट आईएनएस शिवालिक और विमानवाहक पोत आईएनएस विराट के कमांडिंग ऑफिसर के पद भी शामिल हैं।
एडमिरल ने डिफेंस इंटेलिजेंस एजेंसी, नई दिल्ली में असिस्टेंट चीफ ऑफ इंटिग्रेटेट डिफेंस स्टॉफ और बाद में पश्चिमी नौसेना कमान मुख्यालय में चीफ स्टाफ अधिकारी (संचालन) और महाराष्ट्र नौसेना क्षेत्र के फ्लैग ऑफिसर कमांडिंग के रूप में भी कार्य किया है।
फ्लैग अधिकारी को विशिष्ट सेवा के लिए अति विशिष्ट सेवा पदक (एवीएसएम) और विशिष्ट सेवा पदक (वीएसएम) से भी सम्मानित किया गया है। इन्हें रियर एडमिरल के. स्वामीनाथन से वीएसएम के स्थान पर नियुक्त किया गया है, जो पश्चिमी बेड़े के फ्लैग ऑफिसर कमांडिंग (एफओसीडब्ल्यूएफ) के रूप में पदभार संभाल रहे हैं।