युग के परिवर्तन में- रामजी त्रिपाठी

141

अब भी युग के परिवर्तन में थोड़ी-सी देर है

युग कभी बदलता नहीं, बदलती युग की परिभाषा,
संघर्षों में सदा पनपती नव-युग की आशा,
जन-मन के युग आवाहन में थोड़ी-सी देर है

जीवन भर यों गम्भीर नहीं रह पाएगा सागर,
बन्दी प्रवाह के साथ नहीं बह पाएगा सागर,
लहरों के ताण्डव नर्तन में थोड़ी-सी देर है

अधखिले मनोहर फूल सूख कर धूल नहीं होंगे,
आँधी, पानी, मलयानिल के प्रतिकूल नहीं होंगे,
सम्भावित, प्रलय प्रभंजन में थोड़ी-सी देर है

शोषण का जीवन के पोषण से मेल नहीं होगा,
वैभव के हित उत्थान पतन का खेल नहीं होगा,
विप्लव के खुले निमंत्रण में थोड़ी-सी देर है

-रामजी त्रिपाठी