शाम का सूरज- राजीव कुमार झा

145

यह शाम का सूरज
कितना दूर जाता
तालाब के पानी में झाँकता
पेड़ के पीछे अँधेरा घिर गया
नदी का घाट गुमसुम हो उठा
पानी की धार बहती जा रही
आधी रात में पुल के उस पार
रात भर एक नगर टिमटिमाता
सुबह में एक दिन
कोई यहाँ पर लौटकर आता
तुम धूप में दोपहर जब लौट आयी
रास्ते में किसने पुकारा
उस रोशनी को सदा जो जलती रही
रात में उसी रजतपथ में
बिखरता-सिमटता
मन का कहीं आकाश
शाम में कहाँ तुम बैठी मिलोगी

-राजीव कुमार झा