गर्मी में करें सत्तू का सेवन, सत्तू रखता है कूल

255

गर्मी के दिनों में सत्तू का सेवन कई स्थानों पर किया जाता है। विशेष कर यूपी व बिहार में सत्तू काफी प्रसिद्ध है जहां इसके स्वादिष्ट व्यंजन भी बनाए जाते हैं। गर्मी के मौसम में सत्तू का सेवन जहां लू से बचाने के साथ ही कूल रखता है, वहीं पाचन क्रिया को भी सुचारू रखता है, वहीं मोटापे से परेशान लोगों के लिए रामबाण औषधि का कार्य करते हुए छरहरी काया पाने में सहायक होता है।
सत्तू एक कम ग्लाइसेमिक इंडेक्स भोजन है और मधुमेह के लिए एक बढ़िया विकल्प है। पानी के साथ सत्तू में एक चुटकी नमक डालकर पीने से और अच्छे परिणाम प्राप्त होते हैं। भुना हुआ चना आटे में उच्च फाइबर और होते हैं जो कोलेस्ट्रॉल से पीड़ित लोगों के लिए बहुत अच्छा है, साथ ही ये उच्च रक्तचाप को भी नियंत्रित करता है।

गर्मी के मौसम में सत्तू खाने के फायदे-

★ गर्मी के दिनों में सत्तू का सेवन गर्मी के दुष्प्रभाव एवं लू की चपेट से बचाता है। सत्तू का प्रयोग करने से लू लगने का खतरा कम होता है, क्योंकि यह शरीर में ठंडक पैदा करता है।
★ अगर आपको बार-बार भूख लगती है या फिर आप लंबे समय तक भूखे नहीं रह सकते, तो सत्तू बहुत ही लाभदायक है। इसे खाने या फिर इसका शर्बत पीने के बाद लंबे समय तक आपको भूख का एहसास नहीं होगा।
★ सत्तू प्रोटीन का बढ़िया स्त्रोत है और य‍ह पेट की गड़बड़ियों को भी ठीक करता है। इसे खाने से लिवर मजबूत होता है और एसिडिटी की समस्या दूर होती है और आसानी से पचने के कारण कब्जियत भी नहीं होती।
★ जौ और चने से बनाया गया सत्तू डाइबिटीज में फायदेमंद है। अगर आप डाइबिटीज के मरीज हैं तो रोजाना इस सत्तू का प्रयोग आपके लिए फायदेमंद है। इसे पानी में घोलकर शर्बत के रूप में या फिर नमकीन बनाकर भी लिया जा सकता है।
★ शरीर में ऊर्जा की कमी होने पर सत्तू तुरंत ऊर्जा देने का कार्य करता है। यह कमजोरी को दूर कर आपको ऊर्जावान बनाए रखने में कारगर है। इसमें कई तरह के पोषक तत्व भी मौजूद होते हैं जो पोषण देते हैं।
★ मोटापे से परेशान लोगों के लिए सत्तू एक रामबाण उपाय है। जौ से बना सत्तू प्रतिदिन खाने से पाचन तंत्र भी सुचारु रूप से कार्य करता है और मोटापा कम होकर आप छरहरी काया पा सकते हैं।
★ ब्लडप्रेशर के मरीजों के लिए सत्तू का सेवन काफी लाभदायक होता है। इसके लिए सत्तू में नींबू, नमक, जीरा और पानी मिलाकर सेवन करना चाहिए।