वर्ष 2018 के लिए संगीत नाटक अकादमी फैलोशिप और पुरस्कारों की घोषणा

37

संगीत नाटक अकादमी की आम परिषद, राष्‍ट्रीय संगीत, नृत्‍य और ड्रामा अकादमी ने जानी-मानी हस्तियों जा‍किर हुसैन, सोनल मानसिंह, जतिन गोस्‍वामी और के कल्‍याणसुन्‍दरम पिल्‍लै को सर्वसम्‍मति से संगीत नाटक अकादमी फैलोशिप (अकादमी रत्न) के लिए चुना है। अकादमी की फैलोशिप बेहद प्रतिष्ठित मानी जाती है, जो‍ किसी भी समय 40 सदस्‍यों तक सीमि‍त रहती है। उपरोक्‍त चार हस्तियों के चयन से वर्तमान में संगीत नाटक अकादमी के फैलो की संख्‍या 40 है।
आम परिषद ने वर्ष 2018 के लिए संगीत, नृत्‍य, थियेटर, परम्‍परागत, लोक, जनजातीय संगीत, नृत्‍य, थियेटर, कठपुतली नचाने और अदाकारी के क्षेत्र में सम्‍पूर्ण योगदान, छात्रवृत्ति के लिए 44 कलाकारों का संगीत नाटक अकादमी पुरस्‍कारों (अकादमी पुरस्‍कार) के लिए चयन किया है। इन 44 कलाकारों में तीन को संयुक्‍त पुरस्‍कार दिया जाना शामिल हैं। संगीत नाटक अकादमी पुरस्‍कार राष्‍ट्रपति द्वारा ए‍क विशेष समारोह में दिये जाएंगे।
संगीत के क्षेत्र में, ग्यारह प्रख्यात कलाकारों, मणि प्रसाद- हिंदुस्तानी संगीत, मधुप मुद्गल- हिंदुस्तानी संगीत, तरुण भट्टाचार्य- हिंदुस्तानी वाद्य- संतूर, तेजेन्द्र नारायण मजूमदार- हिंदुस्तानी वाद्य- सरोद, अलामेलू मणि- कर्नाटक संगीत, मल्लादी सूरीबाबू- कर्नाटक संगीत, एस. कासिम और एस. बाबू (संयुक्त पुरस्कार)- कर्नाटक वाद्य यंत्र- नादस्‍वरम, गणेश और कुमारेश (संयुक्त पुरस्कार)- कर्नाटक वाद्य यंत्र- वायलिन, सुरेश वाडकर- संगीत की अन्य प्रमुख परम्‍पराएं- सुगम संगीत, शांति हीरानंद- संगीत की अन्य प्रमुख परम्‍पराएं- सुगम संगीत, एच. अशंगबी देवी- संगीत की अन्य प्रमुख परम्‍पराएं- नट संकीर्तन, मणिपुर का अकादमी पुरस्कार 2018 के लिए चयन किया गया है।
नृत्‍य के क्षेत्र में, नौ प्रतिष्ठित कलाकारों को अकादमी पुरस्कार 2018 के लिए चुना गया है। इनमें भरतनाट्यम के लिए राधा श्रीधर, कथक के लिए इशिरा और मौलिक शाह (संयुक्त पुरस्कार), मणिपुरी के लिए अखम लक्ष्मी देवी, कूचीपुड़ी के लिए पसुमूर्ति रामलिंग शास्‍त्री, ओडिसी के लिए सुरूप सेन, सत्रिया के लिए टंकेश्वर हजारिका बोरबयान, मोहिनीअट्टम के लिए गोपिका वर्मा, छऊ के लिए तपन कुमार पट्टनायक, समकालीन नृत्य के लिए दीपक मजूमदार शामिल हैं।
रंगमंच के क्षेत्र में, अकादमी पुरस्कार 2018 के लिए नौ प्रतिष्ठित कलाकारों का चयन किया गया है। इनमें नाट्य लेखन के लिए राजीव नाइक और लल्टुलांग्लियाना खियांगटे, निर्देशन के लिए संजय उपाध्याय और एस. रघुनंदन, अभिनय के लिए सुहास जोशी और टीकम जोशी, मूक अभिनय के लिए स्‍वप्‍न नंदी, रंगमंच की अन्य प्रमुख परम्पराओं के लिए भगवत एएस नन्जप्पा- यक्षगान, रंगमंच की अन्य प्रमुख परम्‍पराओं– कुटियाट्टम के लिए एएम परमेश्वरन कुट्टन चक्कीयार शामिल हैं।
पारंपरिक, लोक, जनजातीय संगीत, नृत्य, रंगमंच और कठपुतली नचाने के क्षेत्र में, दस कलाकारों को अकादमी पुरस्कार 2018 के लिए चुना गया है। इनमें लोक संगीत, उत्तर प्रदेश- मालिनी अवस्थी, लोक संगीत– खरताल, राजस्थान- गाजी खान बरना, लोक गीत, उत्तराखंड- नरेंद्र सिंह नेगी, लोक रंगमंच (भांड पाथेर) जम्‍मू-कश्‍मीर- मो. सादिक भगत, हरिकथा, आंध्र प्रदेश- कोटा सचिदानंद शास्त्री, लोक नृत्य, मध्य प्रदेश- अर्जुन सिंह ध्रुवे, लोक संगीत, हिमाचल प्रदेश- सोमनाथ बट्टू, कठपुतली (स्ट्रिंग), कर्नाटक- अनुपमा होसकरे, मुखौटे बनाना, असम- हेम चंद्र गोस्वामी शमिल हैं।
अभिनय कला में सम्‍पूर्ण योगदान, छात्रवृत्ति के क्षेत्र में अकादमी पुरस्‍कार 2018 के लिए दीवान सिंह बजेली और पुरू दधीच का चयन किया गया है। अकादमी पुरस्‍कार 1952 से दिया जा रहा है। यह सम्‍मान न केवल उत्‍कृष्‍टता और उपलब्धियों के सर्वोच्‍च मानक का प्रतीक है, बल्कि निरंतर व्‍यक्तिगत कार्य और योगदान को मान्‍यता प्रदान करता है। अकादमी फैलो को 3,00,000 रुपये और अकादमी पुरस्‍कार के रूप में ताम्रपत्र और अंगवस्‍त्रम के अलावा 1,00,000 रुपये दिये जाते हैं।

उस्‍ताद उस्ताद बिस्मिल्लाह खां युवा पुरस्‍कारों की घोषणा-
संगीत नाटक अकादमी ने उस्‍ताद बिस्मिल्‍लाह खां युवा पुरस्‍कार 2018 के लिए भारत के उन 32 (एक संयुक्‍त पुरस्‍कार सहित) कलाकारों का चयन किया है, जिन्‍होंने कला प्रदर्शन के अपने-अपने क्षेत्रों में युवा प्रतिभाओं के रूप पहचान बनाई है।
उस्‍ताद बिस्मिल्‍लाह खां युवा पुरस्‍कार कला प्रदर्शन के विविध क्षेत्रों में उत्‍कृष्‍ट युवा प्रतिभाओं की पहचान करने, उन्‍हें प्रोत्‍साहन देने और उन्‍हें जीवन में शीघ्र राष्‍ट्रीय मान्‍यता देने के उद्देश्‍य से 40 वर्ष से कम आयु के कलाकारों को प्रदान किया जाता है। इससे इन कलाकारों को अपने चुने हुए क्षेत्रों में अधिक प्रतिबद्धता और समर्पण से काम करने में मदद मिलती है। पुरस्‍कारों के लिए चुने गए कलाकारों के नाम इस प्रकार हैं– संगीत के क्षेत्र में 8 कलाकरों को ये पुरस्‍कार दिए जा रहे हैं- हिंदुस्तानी वोकल संगीत के लिए समीहान काशेलकर और रुचिरा केदार; हिंदुस्तानी वाद्य संगीत (सितार) के लिए ध्रुव बेदी; हिंदुस्तानी वाद्य संगीत (तबला) के लिए शुभ महाराज; कर्नाटक वोकल संगीत के लिए संदीप नारायण; कर्नाटक वाद्य संगीत (बांसुरी) के लिए जेबी श्रुति सागर; कर्नाटक वाद्य संगीत (वायलिन) के लिए आर. श्रीधर और संगीत की अन्य प्रमुख परंपराओं- भाव संगीत के लिए एमडी पल्‍लवी। नृत्‍य के क्षेत्र में 8 कलाकारों को ये पुरस्‍कार दिए जा रहे हैं। भरतनाट्यम के लिए विजना रानी वासुदेवन और राजित बाबू (संयुक्त पुरस्कार); कथक के लिए दुर्गेश गंगानी; कथकली के लिए कलामंडलम वैसाख; मणिपुरी के लिए मंजू इलांगबम; ओडिसी के लिए मधुलिता महापात्रा; सतरिया के लिए अंजलि बोरबोरा बोरठाकुर; छऊ के लिए राकेश साई बाबू और समकालीन नृत्य के लिए विक्रम मोहन। थियेटर के क्षेत्र में 7 पुरस्‍कार दिए जा रहे हैं। निर्देशन के लिए चवन प्रमोद आर; अभिनय के लिए नम्रता शर्मा; अभिनय के लिए सुनील पलवल; अभिनय के लिए प्रीति झा तिवारी; माइम के लिए कुलदीप पाटगिरी; सम्‍बद्ध थिएटर कलाओं के लिए सुभदीप गुहा, थिएटर संगीत के लिए कलामंडलम साजिथ विजयन; थिएटर की अन्य प्रमुख परंपराओं के लिए- कुटियाट्टम। पारम्‍परिक, लोक, जनजातीय संगीत, नृत्‍य, थियेटर और कटपुतली क्षेत्र में 8 पुरस्‍कार दिए जा रहे हैं। लोक संगीत-बिहार के लिए चंदन तिवारी, पंथी नृत्य-छत्तीसगढ़ के लिए दिनेश कुमार जांगड़े; पारम्‍परिक संगीत खोल- असम के लिए मनोज कुमार दास, कठपुतली-गुजरात के लिए चंदानी मानसिंग ज़ाला; पारंपरिक और लोक संगीत-मणिपुर के लिए ए. एनेशोरी देवी, पारम्‍परिक और लोक संगीत- मणिपुर के लिए पी. राजकुमार, लोकनृत्‍य– तमिलनाडु के लिए मधुश्री हेतल, लोक संगीत (झुमर)- पश्चिम बंगाल के लिए अशोक कुमार, लोक संगीत-उत्तर प्रदेश के लिए एक पुरस्‍कार। उस्‍ताद बिस्मिल्‍लाह खां युवा पुरस्‍कार में 25,000 रुपये की नकद राशि दी जाती है। ये पुरस्‍कार संगीत नाटक अकादमी के अध्‍यक्ष द्वारा एक विशेष समारोह में प्रदान किए जाएंगे।