आंखें खुली हैं वक़्त की- पुष्पेन्द्र सिंह

120

वो चल रहा था बस यूं ही अपने हिसाब से
आंखें खुली हैं वक़्त की मेरे ज़वाब से

जितना यह मेरी ज़िंदगी मुझको सिखा गई
उतना अभी सीखा नहीं मैंने किताब से

मजबूरियों ने रात का साथी बना दिया
वरना हमें भी प्यार था इस आफ़ताब से

अब याद में आना तेरा मुश्किल की बात है
किरदार तेरा खो गया आंखों के ख्वाब से

क्यों वक़्त मेरी जीत से नाराज़ हो गया
क्यों जल रही है ज़िंदगी मेरे खिताब से

है याद तेरे इश्क की सौग़ात के लिए
ख़ुशबू चुराई थी कभी सूखे गुलाब से

अपनी नजर की शोखियां प्याले में घोल दे
वरना नशा होता नहीं मुझको शराब से

-पुष्पेन्द्र सिंह ‘उन्मुक्त’
नर्रऊ, विजयगढ़,
अलीगढ़- 202139
संपर्क- 8192989944