शारदेय नवरात्र- पंचमी माँ स्कंदमाता की आराधना का दिन

249

सिंहासनगता नित्यं पद्माश्रितकरद्वया।
शुभदास्तु सदा देवी स्कन्दमाता यशस्विनी।।

शारदेय नवरात्र की पंचमी को माँ स्कंदमाता की आराधना-उपासना की जाती है। मोक्ष के द्वार खोलने वाली माता परम सुखदायी हैं। माँ अपने भक्तों की समस्त इच्छाओं की पूर्ति करती हैं। माँ स्कंदमाता की उपासना से भक्त की समस्त इच्छाएँ पूर्ण हो जाती हैं। इस मृत्युलोक में ही उसे परम शांति और सुख का अनुभव होने लगता है। उसके लिए मोक्ष का द्वार स्वमेव सुलभ हो जाता है। स्कंदमाता की उपासना से बालरूप स्कंद भगवान की उपासना भी स्वमेव हो जाती है।
पंचमी को साधक का मन विशुध्द चक्र में व्यवस्थित होता है। स्कन्द कुमार (कार्तिकेय) की माता होने के कारण माँ दुर्गा के इस स्वरूप को स्कंदमाता नाम प्राप्त हुआ है। इनके विग्रह में स्कन्द कुमार बालरूप में माता की गोद में बैठे हैं। माँ स्कन्दमाता की चार भुजायें हैं, ये दाहिनी ऊपरी भुजा में भगवान स्कन्द को गोद में पकडे हैं और दाहिनी निचली भुजा जो ऊपर को उठी है, उसमें कमल पकडा हुआ है। माँ का वर्ण पूर्णतः शुभ्र है और कमल के पुष्प पर विराजित रहती हैं। इसी से इन्हें पद्मासना की देवी और विद्यावाहिनी दुर्गा देवी भी कहा जाता है। इनका वाहन भी सिंह है।