प्रथम छमाही में नाल्‍को का शुद्ध लाभ तीन गुना बढ़ा

183

सार्वजनिक क्षेत्र की नवरत्न कंपनी (पीएसयू) नेशनल अल्‍युमिनियम कंपनी (नाल्‍को) नेवित्त वर्ष 2018-19 की प्रथम छमाही में कंपनी ने 5,952 करोड़ रुपये का कारोबार किया है जो वित्त वर्ष 2017-18 की प्रथम छमाही में किए गए कारोबार (टर्नओवर) की तुलना में 42 प्रतिशत अधिक है। कंपनी का शुद्ध मुनाफा वित्त वर्ष 2018-19 की प्रथम छमाही में 229 प्रतिशत की शानदार बढ़ोतरी दर्शाते हुए 1197 करोड़ रुपये के स्‍तर पर पहुंच गया है, जबकि पिछले वित्त वर्ष (2017-18) की प्रथम छमाही में कंपनी का शुद्ध लाभ 364 करोड़ रुपये आंका गया था।
चालू वित्त वर्ष की प्रथम छमाही में जहां एक ओर नाल्‍को का शुद्ध मुनाफा लगभग तीन गुना बढ़ गया है, वहीं दूसरी ओर कंपनी का परिचालन मुनाफा पिछले वित्त वर्ष की प्रथम छमाही में अर्जि‍त 334 करोड़ रुपये की तुलना में इस दौरान चार गुना से भी अधिक बढ़कर 1624 करोड़ रुपये के स्‍तर को छू गया है। कंपनी का ईबीआईटीडीए (ब्याज, कर, मूल्यह्रास और कर्ज अदायगी पूर्व कमाई) मार्जि‍न 17 प्रतिशत से दोगुना होकर 34 प्रतिशत के स्‍तर पर पहुंच गया है। आज भुवनेश्‍वर में आयोजित कंपनी के निदेशक मंडल की बैठक में वित्त वर्ष 2018-19 की दूसरी ति‍माही और प्रथम छमाही के वित्तीय परिणामों की समीक्षा की गई। नाल्‍को ने चालू वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही में 510 करोड़ रुपये का शुद्ध मुनाफा कमाया है, जो पिछले वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही में अर्जि‍त किए गए 235 करोड़ रुपये के शुद्ध लाभ की तुलना में दोगुने से भी अधिक है। चालू वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही में कंपनी का परिचालन मुनाफा 229 प्रतिशत बढ़कर 735 करोड़ रुपये के स्‍तर को छू गया है, जो इससे पिछले वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही में अ‍र्जि‍त 223 करोड़ रुपये के परिचालन मुनाफे की तुलना में 229 प्रतिशत ज्‍यादा है।
अमेरिका के व्‍यापार प्रतिबंधों, इत्‍यादि के कारण अल्‍युमिना और अल्‍युमिनियम के बाजारों में तेज उतार-चढ़ाव रहने के बावजूद नाल्‍को नए कारोबारी मॉडल की बदौलत अपने प्रदर्शन में उल्‍लेखनीय सुधार करने में सक्षम साबित हुई है। नाल्‍को ने नया कारोबारी मॉडल डेढ़ साल पहले पेश किया था। कंपनी के इस नवीन मॉडल से पिछले वित्त वर्ष यानी 2017-18 में उसका शुद्ध मुनाफा दोगुना करने में मदद मिली है। इसी तरह वित्त वर्ष 2018-19 की प्रथम तिमाही के दौरान इसमें और ज्यादा उल्‍लेखनीय सुधार देखा गया है। नाल्‍को ने वित्त वर्ष 2018-19 की प्रथम तिमाही में 687 करोड़ रुपये का शुद्ध मुनाफा कमाया है, जबकि वित्त वर्ष 2017-18 की प्रथम तिमाही में कंपनी का शुद्ध मुनाफा 129 करोड़ रुपये आंका गया था। नाल्‍को के शानदार प्रदर्शन का क्रम चालू वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही में भी जारी रहा। नए कारोबारी मॉडल के तहत विशिष्‍ट उपभोग में कमी करने, लागत में कटौती करने, उत्‍पादन बढ़ाने, हाजिर बाजार में रणनीतिक विपणन करने, इत्‍यादि पर फोकस रहा है। नाल्‍को के चेयरमैन एवं प्रबंध निदेशक डॉ टीके चंद के नेतृत्‍व में कंपनी की समर्पित एवं दृढ़प्रतिज्ञ टीम को 2018-19 के पूरे वित्त वर्ष के दौरान रिकॉर्ड कारोबार करने एवं मुनाफा कमाने का भरोसा है।