फुरसत नहीं होती- सुरेन्द्र सैनी

60

 हर  सुखन  की  चीज शरबत नहीं होती
उसे मेरे घर आने की फुरसत नहीं होती

इस गुलिस्तां में गुले-इशरत नहीं होती
टहले-काबिल, सैर की फुरसत नहीं होती

ग़म से छूटकर मर जाना मुनासिब हो
हमें उसके ग़म से मरने की भी फुरसत नहीं होती

वो दिल क्या जिसे तमन्ना-विसाल न हो
वो चश्म क्या जिसे दीदे-हसरत नहीं होती

ख़ाक होकर भी फ़लक के संग हो करार
एक साअत कोई शीशे सी अशरत नहीं होती

देखो इस  सूरत-कदे में  है हज़ारों सूरतें
कोई सूरत-ए-गर कभी बेसूरत नहीं होती

तुम देख कुछ अकसर सोचते हो ‘उड़ता’
तेरी पलकों पर इश्के-ख़्वाबे-हुज़ूरत नहीं होती

-सुरेंद्र सैनी बवानीवाल ‘उड़ता’
झज्जर, हरियाणा
संपर्क- 9466865227
ईमेल- udtasonu2003@gmail.com