आत्मघाती हमले में सीआरपीएफ के 44 जवान शहीद

150

जम्मू कश्मीर के पुलवामा के पास हुए आतंकी हमले में गुरुवार को सीआरपीएफ के 44 जवान शहीद हो गए और 20 से अधिक घायल हो गए। बताया जा रहा है कि घर से छुट्टी मनाकर लौट रहे 2500 से ज्यादा सीआरपीएफ के जवान 78 वाहनों के काफिले में जा रहे थे। इसी दौरान जैश-ए-मोहम्मद के आत्मघाती हमलावर ने विस्फोटकों से लदी कार से उनकी बस में टक्कर मार दी। धमाका इतना भयावह था कि बस के परखच्चे उड़ गए। करीब 10 किमी तक धमाके की आवाज सुनाई दी।
मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार जम्मू कश्मीर हाईवे पर अवंतिपोरा इलाके में अपराह्न करीब 3:15 बजे आतंकियों ने घात लगाकर हमला किया। आत्मघाती हमलावर की पहचान पुलवामा के काकापोरा निवासी आदिल अहमद डार के रूप में हुई है। आंतकी हमले में सीआरपीएफ के जवानों की शहादत पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी सहित सभी दलों के नेताओं, विदेशों से विभिन्न देशों के राष्ट्र प्रमुखों ने संवेदना प्रकट करते हुए, आंतकी हमले की निंदा की है।

पुलवामा में गुरुवार दोपहर हुए आतंकी हमले के बाद जम्मू में मोबाइल इंटरनेट सेवाएं बंद कर दी गई हैं। वहीं, जम्मू में इंटरनेट सेवाएं रोकने से पहले पूरे दक्षिण कश्मीर में मोबाइल इंटरनेट सेवा बंद कर दी गईa। वहीं. श्रीनगर जिले में इंटरनेट की स्पीड को कम कर 2जी पर ला दिया गया है। पुलवामा में हुए आतंकी हमले के बाद आज सुरक्षा मामलों की कैबिनेट कमेटी की बैठक होगी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री राजनाथ सिंह समेत अन्य सदस्य इसमें शामिल होंगे। यह बैठक संभवत: सुबह 9:15 बजे होगी। वहीं, एनआईए की एक टीम शुक्रवार को सुबह घटनास्थल पर जाकर जांच शुरू करेगी। केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह जम्मू कश्मीर के अवंतिपोरा में आतंकवादी हमले से उत्पन्न स्थिति का जायजा लेने के लिए आज श्रीनगर जाएंगे।