डीआरडीओ ने किये अस्त्र मिसाइल के पाँच सफल परीक्षण

108

रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) ने दृश्य सीमा से आगे हवा से हवा में मार करने में सक्षम मिसाइल (बीवीआरएएएम) अस्त्र के सुखोई-30 एमकेआई विमान से ओडिशा के चांदीपुर तट पर सफल परीक्षण किए हैं। ये परीक्षण 16 से 19 सितंबर के बीच किए गए। ये परीक्षण भारतीय वायुसेना (आईएएफ) द्वारा सभी संभावित खतरों को ध्यान में रखते हुए लक्षित विमान जेट बेनशी के विरुद्ध किए गए।
मिसाइल के अलग-अलग प्रारुपों के पाँच परीक्षण किए गए। इस अभियान के दौरान तीन मिसाइलों के कॉम्बेट प्रारूप का आयुध के साथ परीक्षण किया गया। मिसाइल की मारक क्षमता को स्थापित करने के लिए पैंतरेबाज लक्ष्यों पर निशाना साधकर उन्हें नष्ट किया गया। इन परीक्षणों में अधिकतम रेंज वाली टेलिमीटर मिसाइल द्वारा किया गया सीधा हमला भी शामिल है। मिसाइल की उपप्रणालियों ने सभी मिशन मापदंडों और उद्देश्यों को पूरा करने के लिए सटीक प्रदर्शन किया।
आधुनिक दिशानिर्देश और नौवहन तकनीक से लैस अस्त्र बीवीआरएएएम की मारक क्षमता 100 किलोमीटर से अधिक है। लक्ष्य को सौ फीसदी सटीकता के साथ भेदने के लिए इस मिसाइल में पथ-प्रदर्शक और आरएफ की खोज करने वाला टर्मिनल पथ-प्रदर्शक लगा है।
डीआरडीओ द्वारा वायु सेना के साथ मिलकर एक अत्याधुनिक बीवीआरएएम के निर्माण के लिए हथियार प्रणाली के उपयोगकर्ता परीक्षण चरण को सफलतापूर्वक पूरा कर लिया गया है। हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (एचएएल) ने इस हथियार को विमान में लगाने के लिए उसे उन्नत बनाने में अहम भूमिका निभाई। अस्त्र हथियार प्रणाली को विकसित करने में 50 से ज्यादा सरकारी और निजी उद्योगों ने योगदान दिया है।
मिसाइल के मौजूदा परीक्षणों ने युद्ध के अलग-अलग हालात में इस मिसाइल प्रणाली की क्षमता को साबित किया है। यह मिसाइल इसके इस्तेमाल को लेकर जबरदस्त भरोसा देती है। अस्त्र के पांच सफल परीक्षणों की परिणाम भारतीय वायु सेना की मिसाइल प्रणाली में इसे शामिल किए जाने के तौर पर निकलेगा। अपनी सटीकता और हवाई खतरों को प्रभाली ढंग से नष्ट करने की खूबी के कारण यह बल की क्षमता में निश्चित तौर पर काफी इजाफा करेगी।