पीएनबी घोटाले की जांच में सहयोग न करने पर अंबानी गिरफ्तार

363

पंजाब नेशनल बैंक में हुए 11,400 करोड़ रुपए के घोटाले में सीबीआई ने पहली हाई प्रोफाइल गिरफ्तारी की है। जांच में सहयोग न करने पर नीरव मोदी की कंपनी फायरस्टार के अध्यक्ष (वित्त) विपुल अंबानी को गिरफ्तार किया है। अंबानी कंपनी के वित्तीय लेनदेन का पूरी जानकारी रखते हैं। ज्ञात रहे कि विपुल अंबानी शीर्ष उद्योगपति मुकेश अंबानी के चचेरे भाई हैं।
बताया जा रहा है कि विपुल अंबानी से जांच एजेंसियां काफी दिनों से पूछताछ कर रही थी, लेकिन जांच में सहयोग नहीं करने पर उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया है। सीबीआई के विपुल के अलावा नीरव मोदी की तीन कंपनियों के अधिकृत हस्ताक्षरकर्ता कविता मानकीकर, फायरफास्ट ग्रुप के सीनियर एक्जीक्यूटिव अर्जुन पाटिल, नक्षत्र ग्रुप के सीएफओ कपिल खांडेपाल और गीतांजलि ग्रुप के प्रबंधक नितेन शाही को भी गिरफ्तार किया है। पीएनबी के 11,400 करोड़ रुपये के घोटाले में केंद्रीय जांच ब्यूरो और ईडी द्वारा मोदी और उसके मामा चौकसी तथा मोदी और गीतांजलि समूह के निदेशकों की जांच की जा रही है।