रूस के सुदूर पूर्व क्षेत्र के विकास के लिये एक अरब डॉलर देगा भारत

132

रूस की यात्रा पर गए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को कहा कि भारत रूस के सुदूर पूर्व क्षेत्र के विकास के लिये उसके साथ मिलकर काम करेगा। पांचवें पूर्वी आर्थिक मंच (ईईएफ) के पूर्ण सत्र को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि भारत और रूस के बीच दोस्ती केवल राजधानी शहरों में सरकारी बातचीत तक सीमित नहीं है, बल्कि यह लोगों और करीबी व्यापारिक संबंधों की मित्रता के बारे में है।
उन्होंने कहा कि 130 करोड़ भारतीयों ने मुझपर भरोसा जताया है। इसके लिए मैं उनका आभारी हूं। पीएम मोदी ने कहा कि हम सबका साथ, सबका विकास और सबका विश्‍वास के साथ आगे बढ़ रहे हैं। हम 2024 तक भारत को 5 ट्रिलियन की इकोनॉमी बनाने के अभियान में भी हम जी जान से जुटे हैं।
प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि मेरी रूस के राष्‍ट्रपति व्‍लादिमीर पुतिन से खुले दिन से चर्चा होती है। मैंने और पुतिन ने भारत के लिए लक्ष्‍य तय किए हैं। हमारे संबंधों में हमने नए आयाम जोड़े हैं, उन्हें विविधता दी है। संबंधों को सरकारी दायरे से बाहर लाकर, प्राइवेट इंडस्‍ट्री के बीच ठोस सहयोग तक पहुंचाया है।
उन्होंने कहा कि भारत फार ईस्‍ट (पूर्वी एशिया, उत्‍तरी एशिया और दक्षिण पूर्वी एशिया) के विकास के लिए दी जाने वाली सहायता राशि (क्रेडिट लाइन) बढ़ाकर 1 अरब डॉलर करेगा। उन्‍होंने कहा कि हमारी सरकार ईस्‍ट एशिया के साथ एक्‍ट एशिया पॉलिसी के तहत संपर्क में है। यह हमारे बीच इकोनॉमिक डिप्‍लोमेसी को नए आयाम देगा।