विश्व में उभरते ट्रेंड्स को समझना और उसमें विश्व कल्याण के रास्ते ढूंढना भी है- प्रधानमंत्री मोदी

186

सऊदी अरब के रियाद में आयोजित हो रहे फ्यूचर इनीशिएटिव इन्वेस्टमेंट फोरम के सम्मेलन को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि इस फोरम का उद्देश्य सिर्फ यहां के अर्थतंत्र की चर्चा करना नहीं है बल्कि विश्व में उभरते ट्रेंड्स को समझना और उसमें विश्व कल्याण के रास्ते ढूंढना भी है। उन्होंने कहा कि वे बिजनेस फ्रेंडली सरकार देने के लिए प्रतिबद्ध हैं। भारत ने अगले पांच वर्ष में अपनी इकॉनमी को दोगुनी करके 5 ट्रिलियन डॉलर करने का लक्ष्य रखा है। आज भारत में हम विकास को गति देना चाहते है तो हमें उभरते ट्रेंड्स को समझना होगा।
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि आज भारत दुनिया का तीसरा बड़ा स्टार्टअप इकोसिस्टम बन गया है। हमारे कई स्टार्टअप्स वैश्विक स्तर पर निवेश करने लगे हैं। उन्होंने कहा कि आज मैं आपसे ग्लोबल बिजनेस को प्रभावित करने वाले पांच बड़े ट्रेंड्स के बारे में बात करना चाहूंगा। आज भारत में शोध एवं विकास से लेकर टेक-एंटरप्रेन्योरशिप का एक इको-सिस्टम तैयार हो रहा है। हमारे इन प्रयासों के नतीजे भी आना शुरू हुए हैं. इंफ्रास्ट्रक्चर एक अवसर गुणक है। इंफ्रास्ट्रक्चर बिजनेस को निवेश के व्यापक अवसर देता है। तो दूसरी और बिजनेस की वृद्धि के लिए इंफ्रास्ट्रक्चर आवश्यक है।
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि स्किल इंडिया पहल के तहत आने वाले 3-4 साल में 40 करोड़ लोग विभिन्न क्षमताओं से लैस होंगे। इससे भारत में निवेश करने वाली कंपनियों को लाभ मिलेगा। उन्होंने कहा कि हमारा उद्देश्य 2024 तक रिफाइनिंग, पाइपलाइन, गैस टर्मिनल में 100 बिलियन यूएस डॉलर का निवेश कराना है। मुझे खुशी है कि सऊदी अरामको ने वेस्ट कोस्ट रिफाइनरी प्रोजेक्ट में निवेश करने का फैसला किया है जो एशिया की सबसे बड़ी रिफाइनरी होगी।