करना न मोहब्बत कभी- आलोक कौशिक

129

हुई भूल जो समझा उन्हें शाइस्ता
जाती है अब जान आहिस्ता-आहिस्ता

करना न मोहब्बत कभी बेक़दरों से
ऐ दिलवालों तुम्हें वफ़ा का है वास्ता

मंज़िल तो मिलती नहीं ऐसे राही को
तक़लीफ़ों में ही गुज़रता है रास्ता

खंडहर बन चुका है अब ये दिल
जो हुआ करता था महल आरास्ता

-आलोक कौशिक
मनीषा मैन्शन, बेगूसराय,
बिहार- 851101
ईमेल- devraajkaushik1989@gmail.com
संपर्क- 8292043472