आकाश में भटकने के लिए- अनुप्रिया

348

गहबर लीपती
गोसाईं के द्वार खटखटाती
बरगद की देह में
अपनी इच्छाओं के धागे बाँधती
देवता ,पितर अगोरती
गौरी पूजती स्त्रियों
सुनो!
अबकि पूजना तो
अपनी देह पूजना
अगोरना स्वयं को
खटखटाना तो अपने भीतर सोये
अपने आप को जगाना
और कहना
खोल आए सारे धागे
बरगद की देह से
और
मुक्त कर देना हर इच्छाओं को
गहरे नीले आकाश में भटकने के लिए

-अनुप्रिया