कहर बन गयी है- डॉ उमेश कुमार राठी

120

निगाहों में नफ़रत कहर बन गयी है
वजह कुछ नहीं पर जहर बन गयी है

सजायी ज़िगर में महज़ हमने उल्फ़त
ज़िगर में वही अब फ़िकर बन गयी है

किसे हम सुनायें दिले हाल अपना
परायी नजर सी नजर बन गयी है

शबे-गम अकेले विरह में गुजारी
मगर अब सहर दोपहर बन गयी है

नदी की मुहब्बत समझता है सागर
हवा के परस से लहर बन गयी है

नहीं मोतबर कुछ बचा अब दहर में
हसीं जिंदगी बेकदर बन गयी है

गली है पुरानी मगर मीत मेरे
शहर की डगर रहगुज़र बन गयी है

-डॉ उमेश कुमार राठी