काश- पिंकी दुबे

371

काश कि मैं
समझ पाई होती
तुम यूँ ही मेरा
ख्याल रखते थे
या बात कुछ और थी
क्या पता,
जिन किताबों को
तुम छोड़ आए थे, मेरे सिरहाने
उन किताबों पर लिखे जब
तुम्हारे नाम को छुई तो
कुछ अजीब…
लगा था मन को,
काश की मैं तुम्हारी
उन अनकही बातों को
समझ पाई होती तो,
आज यह हालात नहीं
कुछ और ही होता
क्या पता…

– पिंकी दुबे