चलो सखि बसंत आया- डॉ अनिल कुमार उपाध्याय

114

चलो सखि बसंत आया
कोकिल कुहुकने लगी मधुवन भी सरसाया
भौरों का गुंजार गीत कुसुमों को मनभाया
पतझड़ परिवर्तन का नया एक संदेसा लाया
नव-किसलय की अंगड़ाई ने उत्साह जगाया
वैरागिन के मन में भी मदन मादकता ले आया
विरहीन के आँसुओं में बसंत की है मधुमाया
खग वृंद का कलरव से छाई मद की छाया

– डॉ अनिल कुमार उपाध्याय