चौमासा- संध्या सिंह

392

थोड़ी धूप छुपा कर रखना
सीलन का मौसम आना है

सागर से विकराल भयानक
कुछ काले दानव निकलेंगे
जहाँ प्रेम की लिखी इबारत
ठीक वहीं जा कर बरसेंगे

जम जायेगी काई मन पर
अपने पाँव जमा कर चलना
फिसलन का मौसम आना है

सन्नाटे में साँय साँय कर
हवा डराने को निकलेगी
तेरा कुछ अनकहा चुरा कर
पत्ते पत्ते पर लिख देगी

शायद तुझ पर गिरे बिजलियाँ
थोड़ा धीर बचा कर रखना
विचलन का मौसम आना है

अंगारों सा क्रोध किसी दिन
तुझ पर हन्टर सा बरसेगा
एक विषैला धुआँ निकल कर
सर से पैरों तक ढक लेगा

अधरों पर हुंकार बिछा कर
उस पर तर्क सजा कर रखना
गर्जन का मौसम आना है

-संध्या सिंह