जंगल जाग रहा है- राजीव कुमार झा

193

पानी से भरी नदी में
यह धार विहँसती
कोई गीत जो आज गूँजता
वह खूब पुराना गाना
बचपन की उन यादों को लेकर
फिर उसी गली में चले गये हो
शायद बहुत पास वह घर है
कितना टूटा भीतर से हारा
कल से कितना अनजान बना मन
गहरे मन की काया
तुमने फिर पास बुलाया
हरियाली में सरसो के
पीले फूल मनोहर
इनकी उज्ज्वल आभा
यह धूप बना मन
कितनी देर से
तुम छत पर आज खड़ी
संध्या की शीतल छाया में
दरवाजे पर दीपक को
खूब खुशी से
तुमने आज जलाया
स्निग्ध रात्रि में पेड़ों पर
पंछी सोये हैं
सुबह पहर यह
मौन आज मुखरित है
कलकल स्वर में जंगल जाग रहा है

-राजीव कुमार झा