जाने क्यों- सूरज राय सूरज

292

सिसकती है मेरी कश्ती मेरी पतवार जाने क्यों
कोई तो है बुलाता है मुझे उस पार जाने क्यों

पड़ोसी को पता है सब मेरी तन्हाई से बातें
ज़रा ज़्यादा ही सुनने लग गयी दीवार जाने क्यों

अभी मस्ज़िद भी है खामोश ओ चुप-चुप हैं मन्दिर भी
अम्न की बात करने लग गये हथियार जाने क्यों

गुज़िश्ता हादसों ने इस क़दर हस्सास कर डाला
मुझे परछांई का लगने लगा है भार जाने क्यों

अंगूठा-दस्तख़त काग़ज़ पे कोरे कर दिये मैंने
खरीदी है बड़े भाई ने फिर तलवार जाने क्यों

मैं जबसे माँ तुझे व्रद्धाश्रम में छोड़ आया हूँ
सरकने लग गई सर से मेरे दस्तार जाने क्यों

ये मेरी हार है या कोई समझौता मुक़द्दर से
ज़माने के चलन को कर लिया स्वीकार जाने क्यों

उठाने लग गया सर मेरे अंदर का भिखारी क्या
मुझे भाने लगे हैं कीमती उपहार जाने क्यों

बदन की रूह की सारी किताबें छान ली मैंने
नहीं आता समझ में ये तेरा संसार जाने क्यों

मुझे मालूम है सूरज कभी भी कुछ नहीं कहता
किया करते हैं जुगनू ही सदा तकरार जाने क्यों

-सूरज राय सूरज