तस्वीरें चलती रहती हैं- रकमिश सुल्तानपुरी

133

रातों मन के
अंधेरों में
तस्वीरें चलती रहती हैं

शामों से ख़ामोशी ठहरी
रहती है मेरे घर
फ़ैली रहती है रातों भर
तन्हाई की चादर
सुबह सबेरे
मन को घेरे
परछायीं बढ़ती रहती है
रातों मन के अंधेरों में

सन्देहों की जाल बिछाती
जाती याद सलोनी
सोने देती मुझको कैसे
स्वप्नों की अनहोनी
चक्षु झीलों से
निकल निकल
दुख सरिता बहती रहती है
रातों मन के अंधेरों में

धूमिल आहट को धोखे में
रखतीं रातें काली
सुबह सजाये सूरज लाता
भावुकता की थाली
मन के बागों
में ख़ुशबू भर
पुरवाई बहती रहती है
रातों मन के अंधेरों में

-रकमिश सुल्तानपुरी
भदैयाँ, सुल्तानपुर, उत्तर प्रदेश