दिल लिये हाथ में – मन्जूषा

350

मयकशी की नहीं मयखाने घूमकर आये
दिल लिये हाथ में दीवाने घूमकर आये

उनसे हाले दिल बयां करने की चाह लिये
जाने किस किस ठिकाने घूमकर आये

ज़ब्त होता भी नहीं और बयां भी न हुआ
छुपते छुपाते करके बहाने घूमकर आये

ठुकराके तेरी चाहत बहुत हैं पछताये
मेरी नादानियों को बहलाने घूमकर आये

पर्दादारी की पाबंदियों को तोड़के आज
तेरी गलियों में खुद को लुटाने घूमकर आये

– मन्जूषा