दो कविताएं- डॉ अनिल कुमार उपाध्याय

125

आओ फिर से नयी शुरुआत करें
कहीं दूर चल कर दिल की बात करें
सोचा था कर दूंगा आफताब के टुकड़े
बुझे हुए चिराग से चलो मुलाकात करें
अरमां और यकीन की इन लाशों पर
बेवज़ह बार-बार क्यों अश्रुपात करें
क्या हार कर जीना छोड़ दें हम भी
चलो इनसे भी दो-दो हाथ करें

+÷+÷+

बसंत भर यौवन भार
बन कमनीय सुकुमार
सेमल शिरीष कचनार
उल्लसितत्रिविध बयार
तो रण बने आम्र बौर
फूले कदम्ब ठौर ठौर
मनोहर प्रकृति-पौर
सुवासित मालती- झौर
कोयल करे मंगलचार
प्रकृति लेकर पुष्पहार
मधुप कर कर के गुंजार
करते प्रगट नित आभार

– डॉ अनिल कुमार उपाध्याय