नवगीत- रकमिश सुल्तानपुरी

146

सहज प्रेम से
दूर आदमी
लिए स्वयं की बात अड़ा है

दुनिया की इस
चकाचौंध में
हमने देखे खूब मुखौटे
राह भटकते
मिले नयनसुख
अंधे रखते है कजरौटे
बैसाखी पर
शेष सभ्यता
डगमग चलती मार कुलांचे
नष्ट हो रही
व्यवहारिकता
निजता का दुर्भाव बढ़ा है

हित अनहित
पर दोषारोपण
में उलझे तज चाह प्रीति की
ख़ुशी-ख़ुशी पर
पिस जाते हम
चक्की में क्यों राजनीति की?
दुःख भर जाते
सुख के साधन
स्वार्थपरता प्रबल हो गयी
रंग गिरगिटी
प्रेम रंग पर
उजला सा बदरंग पड़ा है

रच देते हम
रूप झूठ का
थोड़ी लालच की आहट पर
सन्नाटे
पहरा देते है
कोलाहल वाले चौखट पर
सम्बन्धों में
बढ़ती कटुता
घड़ियाली आंसू ढरते हैं
ठेष हृदय में
स्पंदन संग
बदला, बदला हुआ खड़ा है

-रकमिश सुल्तानपुरी
भदैयाँ, सुल्तानपुर, उत्तर प्रदेश