प्रीत करे सत्कार- डॉ उमेश कुमार राठी

126

जीवन परिपथ को जब करता
घर का द्वार निराश
आभासी दुनिया में करता
निशदिन प्यार तलाश
तृप्ति बने आधार हृदय की
प्रीत करे सत्कार
फूल तपश में फिर भी लाता
बारंबार पलाश

प्रेम अचानक कर देता है
पैदा बड़े बवाल
यह समाज फिर कर देता है
उन पर खड़े सवाल
भावुक होकर हर दिल कहता
ऐसा होता काश
आभासी दुनिया में करता
निशदिन प्यार तलाश

विचरण करते स्वप्न नयन में
भरते नई उड़ान
आते हैं सौ प्रश्न हृदय में
लेकर कई उफ़ान
मूरत में सूरत को तकता
अक्सर संगतराश
आभासी दुनिया में करता
निशदिन प्यार तलाश

प्यार समर्पण करती सरिता
देकर जल उपहार
सिंधु मगर कब माना करता
नदिया का उपकार
दंभ बढ़ा लेता जब सागर
करता ज्वार विनाश
आभासी दुनिया में करता
निशदिन प्यार तलाश

-डॉ उमेश कुमार राठी