फुरसत के कुछ एक पल- सतेन्द्र मोहन शर्मा

143

मकाँ में एक छत के नीचे दीवारें बहुत सी हैं
वो अक्सर एक दूजे से कुछ ना कुछ बोलती हैं
जहाँ इंसान आपस में नज़रें ना मिलाते हों,
ये बेजाँ ईंट की दीवारें भी इंसानों पे हँसती हैं

~~•~~

पल ने पूछा एक पल रूक कर मुझ से मिलोगे किस पल
मैंने कहा जीवन के सफर में फुरसत होगी जिस पल
चलता रहा मैं वक़्त के संग संग आगे क़दम बढा कर
ढूँढ ना पाया कभी कहीं वो फुरसत के कुछ एक पल

-सतेन्द्र मोहन शर्मा