भाव विभोर हुआ मन मेरा- डॉ उमेश कुमार राठी

114

भाग गया चुपचाप अँधेरा
लायी रश्मि प्रभात
भाव विभोर हुआ मन मेरा
जाग गये जज़्बात

रोज सवेरे दस्तक़ देते
प्रेम भरे संदेश
कुछ तो दिल में प्यार बढ़ाते
कुछ देते आदेश
नित बदले परिवेश चितेरा
बदले जब हालात
भाव विभोर हुआ मन मेरा
जाग गये जज़्बात

भँवरों का गुंजान लुभाता
तितली की मुस्कान
फूल सदा मकरंद लुटाता
लगता मधुर विहान
पात सुमन पर करे बसेरा
शबनम की बरसात
भाव विभोर हुआ मन मेरा
जाग गये जज़्बात

पारिजात हर रात खिले तो
आता द्वार बसंत
मीत अगर सौगात मिले तो
होता प्यार अनंत
कितना मोहक चित्र उकेरा
नेह भरा लम्हात
भाव विभोर हुआ मन मेरा
जाग गये जज़्बात

-डॉ उमेश कुमार राठी