माँ- चन्द्र विजय प्रसाद चन्दन

123

जब आऊं मैं तब भी तू ज्योति पर्व मनाएगी माँ
माना भूखी है अब भी तू तब मुस्कओगी ना माँ

यक्ष प्रश्न यह पूछ रही मैं कितनी वेदना और सहूँ
उभार उदर के किंतु भूख तुम्हारी कितनी और कहूँ

लहू चूसती नाभि बंधन क्योंकर है उल्लास तुम्हें
लालायित अधरों की प्यास, कहूँ जिंदा लाश तुम्हें

विमुक्त करो यदि तिल-तिल जलती जननी हो तुम
भ्रूण विकसित हो ना उदर माँ ह्रदय छलनी हो तुम

आह!तनिक ना लज़्ज़ा आई जाने कौन है नराधमी
कोख में सुकृति गढ़ती कहो विपदा कहूँ या हो उद्यमी

-चन्द्र विजय प्रसाद चन्दन
देवघर, झारखण्ड