यादों के घने जंगल में- राजीव कुमार झा

208

यादों के घने जंगल में
थोड़ी देर पहले बारिश थमी
किस दिशा में इन्द्रधनुष उग आया
मन की नदी किस मिठास से भरी
नाव को हिलोरों में लेकर
तट के पार चली गयी
आकाश कितने सपनों को समेटता
अपना रंग बदलता रहता
जाड़े का मौसम
बसंत के आते ही बीत जाता
ग्रीष्म की तेज धार में
जंगल सबको सुहाता
आकाश को चाँद सितारों से सजाता
बारिश में हवा को राह
बादल अब बताता
तब मन में
रिमझिम फुहारों को लेकर
फिर यादों का बरसात आता

-राजीव कुमार झा