याद आये वो मधुर पल- डॉ उमेश कुमार राठी

805

याद आये वो मधुर पल
जो लहू में घुल गये
याद के पन्ने अचानक
उर पटल पर खुल गये

ताप श्रापित वेदना से
जन्य तन का स्वेद है
भावना का चेतना से
मानसिक मतभेद है
आँसुओं की धार में सब
दाग दिल के धुल गये
याद के पन्ने अचानक
उर पटल पर खुल गये

सिंधु तेरे तल अतल में
रत्न अब भी शेष हैं
शंख माणिक और
मुक्ता के बचे अवशेष हैं
लोभ की कुंठित तुला पर
रत्न सारे तुल गये
याद के पन्ने अचानक
उर पटल पर खुल गये

जोड़ करके धन असीमित
मोह का पाया सिला
भर लिया वैभव अपरिमित
पर मिला केवल गिला
मृत्यु रूपी पालकी में
मीत सब आकुल गये
याद के पन्ने अचानक
उर पटल पर खुल गये

-डॉ उमेश कुमार राठी