ये जिंदगी है कुछ यूँ- अनुभव मिश्रा

137

ये ज़िन्दगी है कुछ यूँ कुछ इस तरह इसमें चलना पड़ता है
जब जब गिराए कोई उठकर तब तब सम्भलना पड़ता है
बिखेरने को खड़ा है ज़माना तोड़ने को हैं सभी
टूटकर फिर से जो चमके उस हीरे सा निखरना पड़ता है
ये ज़िन्दगी है कुछ यूँ कुछ इस तरह इसमें चलना पड़ता है

लहरों से ना तू डर अब ग़र समंदर में है तू उतर गया
लहरों को चीर कर ही तो नौका को आगे निकलना पड़ता है
मुश्किलों से ना तू डर ना हार मान उनसे कभी
मुश्किलें हैं सीढियों सी पाने को मंजिल कई सीढ़ियां चढ़ना पड़ता है
ये ज़िन्दगी है कुछ यूँ कुछ इस तरह इसमें चलना पड़ता है

आशिकी में ना तू पड ना इश्क़ को मंजिल बना
है दूर तक जाना तुझे बस हौले हौले चलता जा
कुछ पाने के लिए थोड़ा परिश्रम तो करना पड़ता है
सफ़र-ए-हयात बनाने को हसीन हालातों से भी लड़ना पड़ता है
ये ज़िन्दगी है कुछ यूँ कुछ इस तरह इसमें चलना पड़ता है

मंजिल तेरी तू खुद बना ज़माने से क्या है पूछता
हमसफर तू खुद का बन राहों में अकेले चलना पड़ता है
यूँ ही नहीं पहुँच जाता कोई ऊंचे ऊंचे मुक़ामों पर
सपनों की जमीं पर चलने के लिए कई मर्तबा फिसलना पड़ता है
ये ज़िन्दगी है कुछ यूँ कुछ इस तरह इसमें चलना पड़ता है

-अनुभव मिश्रा