शहीद- शार्दुल श्रेष्ठ

203

शहीद आसमान का वो
दुर्लभ तारा होता है
जिसकी चमक मात्र से सूरज से
अधिक उजियारा होता है

जो रात्रि के अन्धकार में
मन का उजाला करता है
स्वयं नीलकंठ भी उसके
मन्दिर की परिक्रमा करता है
उसकी उर्जा से सूर्य ग्रहण में
रोशनी देता है
चन्द्र ग्रहण में उसकी उर्जा
चन्दा मे चाँदनी लाती है
और अमावस की रात्रि में भी
चन्दा दिखलाती है
ऐसा मनुष्य मृत्यु लोक में
अमर उजाला होता है
शहीद आसमान का वो
दुर्लभ तारा होता है

बादल उसे ढक नहीं पाता
राष्ट्रीय समर्पण का दर्पण दिखलाता
राष्ट्रीय अर्चन हमें सिखलाता
वो हमको पराकाष्ठा दिखलाता
जिसके स्मर्ण मात्र से
पवन मुख मोड देता है
शहीद आसमान का वो
दुर्लभ तारा होता है।

– शार्दुल श्रेष्ठ