हिन्दी दिवस पर दोहे: गौरीशंकर वैश्य

76

हिंदी भाषा पर हमें, तन मन से है गर्व।
शुभ दिन है हिंदी दिवस, सभी मनाएँ पर्व ।

अँग्रेजी के सामने, हिंदी क्यों है हेय।
माँ की भाषा से मिले, देशज ज्ञान प्रदेय।

तजें मानसिक दासता, अँग्रेजी दें छोड़ ।
हिंदी माँ को मान दें, पग – बंधन को तोड़।

हिंदी पूजित विश्व में, घर में क्यों अपमान।
निज भाषा की शक्ति से, बने हुए अनजान।

गौरीशंकर वैश्य विनम्र
117, आदिलनगर, विकासनगर,
लखनऊ, उत्तर प्रदेश- 226022
संपर्क- 09956087585