खबर: सुरेन्द्र सैनी

64

तेरे हँसने की भी ख़बर बनती है
दिल बसने की भी ख़बर बनती है

मैं तो फिर भी मशगूल हो जाता हूँ
बात बनने की भी ख़बर बनती है

नज़र-नज़र का ही तो खेल है बस
निगाह मिलने की भी ख़बर बनती है

संग बह जाता हूँ मोहब्बते-दरिया में
साथ चलने की भी ख़बर बनती है

जाने क्या छूट गया मेरी गिरफ्त से
हाथ मलने की भी ख़बर बनती है

किसी तजुर्बे से कोई चोट लग गयी
फिर सँभलने की भी ख़बर बनती है

‘उड़ता’ मुश्क गलने की भी ख़बर बनती है
यादों में जलने की भी ख़बर बनती है

सुरेंद्र सैनी बवानीवाल ‘उड़ता’
झज्जर, हरियाणा- 124103
संपर्क +919466865227
udtasonu2003@gmail.com