फागुन ले आया खुशियों के रंग- अनुराधा चौहान

201

फागुन ले आया खुशियों के रंग
झूमे प्रकृति हवाओं के संग
फूल मुस्कुराते भँवरों के संग
उमंग भरी चली बसंती हवाएं
रक्तिम फूले उठे हैं पलाश
फाग के गीतों की मची है धूम
अबीर, गुलाल में रंगें सबके मन
नाच रहे हैं सारे रंगों में रंगकर
ढपली और मृदंग की थाप पर
थिरकता झूमता मनभाता फागुन
रंग-बिरंगे रंगों में रंग गया जीवन
प्रकृति का खिले हर एक कोना
फूलों का बिछा रंगीन बिछौना
रंगों की लेकर बहार है आया
लो रंग-रंगीला फागुन आया
रंग होली के साथ है लाया
गुलाल के रंग में रंगे हैं सारे
रंग-बिरंगे होते आँगन,गलियारे
प्रीत के अहसास से भीगे तन
हर्षित है आज हर किसी का मन
रंगों में रंगने को निकल पड़ी
ले पिचकारी सखियों की टोली
लो आया रंग-रंगीला फागुन
सब मिलकर खेलो लो आई होली

-अनुराधा चौहान