प्रथम बार श्रृंगार किया था- आशुतोष असर

195

अपने अंदर के सुख को जब मन से एकाकार किया था
प्रकृति ने मेरी उस क्षण ही प्रथम बार श्रृंगार किया था

दूर धरा को गगन चूमता
था लज्जा की लाली देकर
भंवरों ने कलियों को लूटा
था मन की हरियाली देकर
संगति ने आतुरता का जब सहज सुलभ आभार किया था
प्रकृति ने मेरी उस क्षण ही प्रथम बार श्रृंगार किया था

प्रथम कली पौधे के तन से
उठकर जब मुस्काई थी
माली की मेहनत को विधि की
कैसी सुंदर भरपाई थी
कल ने शायद इन्हीं क्षणों में क्षमता पर अधिकार किया था
प्रकृति ने मेरी उस क्षण ही प्रथम बार श्रृंगार किया था

शिशु के मुख से प्रथम बार जब
माँ का संबोधन उपजा था
श्रद्धा की इक अभिव्यक्ति को
प्रकृति का मानस तरसा था
ममता ने धरती पर जिस पल नेह जगत साकार किया था
प्रकृति ने मेरी उस क्षण ही प्रथम बार श्रृंगार किया था

जब तुषार की कोमलता को
पंखुड़ियों ने सहा सहेजा
सूरज ने अपनी किरणों को
धरती सुबह नहाने भेजा
तुहिना ने उस प्रथम किरण को जिस पल अंगीकार किया था
प्रकृति ने मेरी उस क्षण ही प्रथम बार श्रृंगार किया था

ढल कर आंखों से बूंदों में
अल्हड़ता बरबस ढलकी थी
नेह लिए आँखें यौवन की
मिट जाने को जब छलकी थी
किसी प्रिया ने प्रीतम के उर का जब झंकृत तार किया था
प्रकृति ने मेरी उस क्षण ही प्रथम बार श्रृंगार किया था

-आशुतोष असर