तुम याद आ ही जाते हो- रुचि शाही

381

कोई सामान नही थी मैं
जीती जागती इंसान थी
फिर भी उतार फेंका था मुझे
एक बोझ की तरह
और कर लिया था
तान के अपना कांधा सीधा
कि कभी दुलार से मैं
अपनी बाँहे भी नहीं डाल सकी
तुम्हारे गले में
याद भी नहीं मुझको
तुमने क्या दिया था
और क्या नहीं दिया था मुझे
हाँ दिया था तो बस
भर मन कड़वाहट
जो वक्त के साथ कम तो हुआ
पर अपनी जगह पर
आज भी बाकी है
फिर भी मन से
मिटा नही पाई तुम्हें
आज भी तीज-त्योहारों पे
तुम याद आ ही जाते हो
पर कभी आवाज नही दे पाई तुम्हें
यों लगता है सम्बन्ध रहते हुए भी
सम्बोधनविहीन हो गए हो तुम
अब तुम्हें अपना कहकर
बुलाने के लिए कोई लफ्ज
नही बचा मेरे पास
ख्याल अब भी आता है तुम्हारा
पर मैं वैसे ही झटक देती हूँ
जैसे तुमने उतार फेंका था मुझे

-रुचि शाही