पीड़ा से परे स्त्री कहाँ- अनामिका चक्रवर्ती

285

जब ईश्वर नें संसार के कपाल में पीड़ा लिखा
तब उसे स्त्री बनाना पड़ा
क्योंकि वह भी जानता है
पीड़ा का अनुभव करने
और उसे सहने की क्षमता केवल स्त्रियों में ही है
ठीक उसी तरह
जैसे किसी स्त्री की गोद में
भूख से तड़पता उसका दुध मुंहा शिशु हो
और उसकी छाती का दुध सूख गया हो
ऐसी परिस्थिति की लाचारी का अनुभव
और उसे सहना एक स्त्री ही कर सकती है
जबकि उस शिशु का जन्म
स्त्री पुरुष के रक्त से मिलकर ही होता है
जो एक पुरुष बनता है वह पुरुष
पीड़ा का अनुभव कर सकता है परन्तु स्त्री पीड़ा को जीती है…
पीड़ा अगर स्त्री का परम दुख है
तो वही उसके स्त्री होने का गर्व भी है
हाँ जरूरी यह है कि
किसी भी हालत में कमजोर पड़कर
वह पीड़ा को प्रहार न बनने दे स्वयं पर
“स्त्री सक्षम है, सशक्त भी बनी रहे।”

-अनामिका चक्रवर्ती