बदरंग नही होता प्यार- बुशरा तबस्सुम

184

कभी भी…
बदरंग नही होता प्यार,
तुम्हारी लापरवाहियों की धूप मे
खुला छोड़ा है मैने इसे
कई बार…
आँखो की अंगनाईंयो मे भीगा बहुत
उदासियों की जब भी चली बयार;
बिछोह की ठिठुरन मे
ज़हन मे उभरती
तुम्हारी मुस्कानो की आंच से…
वसंत के नवांकुर सा
फिर फिर खिला है
हर बार
बदरंग नही होता प्यार।।

-बुशरा तबस्सुम