राष्ट्र की पहचान हिंदी: प्रीति चतुर्वेदी

102

हिंदी है हमारी राष्ट्रभाषा
करते है हम जिसका सम्मान
जिसकी है अपनी एक निराली शान
जिससे बनी है हमारी पहचान
यह है हमारी एक मात्र भाषा हिंदी
सोहे जिसके माथे पर बिंदी

गर्व से कहो हम है हिंदी
जिसके बिना सूनी है इस देश की मिट्टी
जोड़े रखा है जिसने हमें अपनी संस्कृति से
जिसके बिना अधूरी है हमारी ज़िन्दगी

मिली है जिसमे गुरुओं संतों की वाणी
जिससे है पूरी वेदों पुराणों की कहानी
सुबह शाम बोली जाती है यह मुँह जुबानी
जिसके लिए की गई है बहुत कुर्बानी

आओ मिलकर यह मुहीम चलाये
घर-घर तक देश के कोने कोने तक
हिंदी भाषा का परचम फैलाये
और गर्व से कहें हम है हिंदी भाषी
नहीं होते जिससे हम शर्मसार
जो है हमारा आत्म सम्मान

प्रीति चतुर्वेदी
लुधियाना, पंजाब