मधुमायी प्रीत समर्पण की- डॉ उमेश कुमार राठी

433

सुर गीत तुम्हीं संगीत तुम्हीं
अनुभूति तुम्हीं अंतर्मन की
कर बैठे हम जीवन अर्पण
मधुमायी प्रीत समर्पण की

भोर हुयी शीतल वितान है
रश्मि भरा मंजुल विहान है
जारी रखिये निज उड़ान को
मुग्ध रहो चंचल विवान है
मुस्कायी जब निश्छल चितवन
तब जीत हुयी मन दर्पण की
मधुमायी प्रीत समर्पण की

एक उदासी बैठ गयी है
एकल मन के वृंदावन में
फूल पलास खिले डाली पर
आग दिखे पूरे कानन में
जिससे राहत मिलती अविचल
वो ज्योति तुम्हीं आकर्षण की
मधुमायी प्रीत समर्पण की

सूखा सा तालाब पड़ा है
मीत हृदय का आब उड़ा है
कैसे प्यास बुझाये कोई
कंठ तृषा से तन जकड़ा है
हीरक जैसी ओस तुहिन से
रात पयोदित है कुछ क्षण की
मधुमायी प्रीत समर्पण की

-डॉ उमेश कुमार राठी