मेरी मोहब्बत में- आलोक कौशिक

114

लगता है ज़िन्दगी से वह ऊब गया
तभी तो मेरी मोहब्बत में डूब गया

औरों से अलग था हर अन्दाज़ मेरा
सब उत्तर की ओर तो मैं जनूब गया

जीने की ज़िद में मरता नहीं है हौसला
न जाने कितनी बार मसला दूब गया

इश्क़ में भुला दिया था जिसने खुद को
सुना है कि भूल उसको महबूब गया

लिखा था बहुत ही कम तेरे ‘कौशिक’ ने
लेकिन पढ़ा उसको बहुत ख़ूब गया

-आलोक कौशिक
मनीषा मैन्शन,
बेगूसराय, बिहार, 851101,
ईमेल- devraajkaushik1989@gmail.com
संपर्क- 8292043472