उसके प्यार का- तारांश

201

आँसू बहाता रहा और अँगूठा चलता रहा
कुछ यूँ उसके प्यार का सूरज ढलता रहा

जाम छलकती रही सावन में घर के अंदर
बिन छत का ग़रीब बारिश में गलता रहा

लोगों ने कह दिया साँवले हो तुम बहुत
ता’उम्र वह चेहरे की क्रीम बदलता रहा

कूल लगता है बहुत उसे गालियाँ देना
टोकने पर ज़ुबाँ उसका फिसलता रहा

उल्फ़त न रास आयी जिसको बेटी की
तरक़्कीपसंद कह ख़ुद को छलता रहा

इक घूँट पिया था बचपन मे नफ़रत का
सारी ज़िन्दगी वह ज़हर उगलता रहा

यह वक़्त था गुजर गया पलक झपकते
तारांश खड़ा इंतज़ार में हाथ मलता रहा

-सूरज रंजन तारांश