वो बचपन की होली- कुमारी अर्चना

220

कोई तो लौटा दो
मेरे बचपन की वो होली
रंगों में डूबी
पानी में भींगी
कीचड़ में सनी
गोबर से खेली
पिचकारी से उड़ी
गुलाल से रंगी
फागुन मौसम में सजी
गीत में डली
सपनों में बुनी
अपने से मिली
हमजोली संग झूमी
प्यार में मिली
नफ़रतो को भूली
संयुक्त परिवार बंधी
समाज संग धुली मिली
प्रकृतिक रंग से रंगी
बड़ों के पाँवों में लगी
वक्त से अपना रूप बदली
अपनों से दूर
पराओं के बीच
कृत्रिम रंग से रंगी
चेहरों पर लगी
दिल सूखी रही
मिलावटों में मिली
रीति रिवाजों से हटी
परम्पराओं उड़ाती खिल्ली
बड़ों करना सम्मान भूली
उपभोगतावादी युग ने
वस्तुओं का महत्ता बनायी
लोगों के दिल की छोटी!
कोई फिर से ला दो
मेरी वही बचपन की होली!

-कुमारी अर्चना “बिट्टू”
पूर्णियाँ, बिहार