Sunday, March 3, 2024
Homeआस्थाव्रत-त्योहारमाघ गुप्त नवरात्रि 2024: इस दिन से शुरू होगा दस महाविद्याओं की...

माघ गुप्त नवरात्रि 2024: इस दिन से शुरू होगा दस महाविद्याओं की आराधना का महापर्व

सनातन धर्मावलंबियों के लिए माँ दुर्गा की आराधना के महापर्व नवरात्रि का समय अत्यंत महत्वपूर्ण होता है। नवरात्रि दो तरह की होती हैं, पहली प्रगट नवरात्रि और दूसरी गुप्त नवरात्रि। दोनों प्रकार की नवरात्रि वर्ष में दो बार मनाई जाती है इस प्रकार वर्ष में चार बार नवरात्रि मनाने का विधान है।

सनातन धर्म ग्रंथों के अनुसार प्रगट नवरात्रि में माँ दुर्गा की प्रगट रूप से अर्थात सार्वजनिक रूप से पूजा-अर्चना की जाती है। जबकि गुप्त नवरात्रि में माँ काली एवं दस महाविद्या की पूजा गुप्त रूप से करने का विधान है। आषाढ़ और माघ मास के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा से नवमी तक गुप्त नवरात्रि मनाई जाती है।

गुप्त नवरात्रि की पूजा में तांत्रिक साधक अघोरी आदि तंत्र-मंत्र की सिद्धि प्राप्त करने के लिए गुप्त साधना करते हैं। सामान्य जन भी गुप्त रूप से माता की आराधना कर अपने सभी संकटों के निवारण का आशीर्वाद प्राप्त कर सकते हैं।

पौराणिक मान्यतानुसार गुप्त नवरात्र के दौरान अन्य नवरात्रों की तरह ही पूजा करनी चाहिए। नौ दिनों के उपवास का संकल्प लेते हुए प्रतिप्रदा यानि पहले दिन घटस्थापना करनी चाहिए। घटस्थापना के बाद प्रतिदिन सुबह और शाम के समय मां दुर्गा की पूजा करनी चाहिए।

गुप्त नवरात्रि के दौरान घट स्थापना उसी तरह की जाती है, जिस तरह से चैत्र और शारदीय नवरात्रि में होती है। सुबह-शाम की पूजा में माँ को लौंग और बताशे का भोग लगाना आवश्यक होता है। इसके बाद माँ को श्रृंगार का सामान जरूर अर्पित करें। सुबह और शाम दोनों समय पर दुर्गा सप्तशती का पाठ जरूर करें।

गुप्त नवरात्रि के दौरान माँ काली, तारा देवी, त्रिपुर सुंदरी, भुवनेश्वरी, माता छिन्नमस्ता, त्रिपुर भैरवी, माँ धूमावती, माता बगलामुखी, मातंगी और कमला देवी की पूजा की जाती है। इन्हें दस महाविद्या भी कहा जाता है।

हम सभी जानते हैं कि विक्रम संवत का प्रारंभ उत्तर भारत में चैत्र मास के शुक्ल पक्ष की परिवा से होता है और इस प्रकार चैत्र मास की नवरात्रि हमारे लिए नव वर्ष के आगमन का पर्व है। इसके 3 महीने बाद अर्थात आषाढ़ मास की शुक्ल पक्ष की परिवा से गुप्त नवरात्रि प्रारंभ होती है। अगले 3 महीने बाद अर्थात अश्वनी मास के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा से शारदीय नवरात्रि पर्व प्रारंभ होता है। इसके बाद 3 महीने बाद माघ मास के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा से नवमी तक गुप्त नवरात्रि आती है।

वर्ष 2024 में शनिवार 10 फरवरी से रविवार 18 फरवरी 2024 तक गुप्त नवरात्रि रहेगी। गुप्त नवरात्रि की पंचमी को वसंत पंचमी का पर्व मनाया जाता है और इस दिन विद्या की देवी माँ सरस्वती की पूजा की जाती है।

टॉप न्यूज