Sunday, March 3, 2024
Homeआस्थावार्षिक राशिफल 2024कुंभ राशि का वर्ष 2024 का वार्षिक राशिफल

कुंभ राशि का वर्ष 2024 का वार्षिक राशिफल

ज्योतिषाचार्य पं अनिल कुमार पाण्डेय
प्रश्न कुंडली एवं वास्तु शास्त्र विशेषज्ञ
साकेत धाम कॉलोनी, मकरोनिया
सागर,  मध्य प्रदेश- 470004
व्हाट्सएप- 8959594400

कुंभ राशि, राशि चक्र की ग्यारहवीं राशि है। कुंभ का अर्थ होता है घड़ा। अंग्रेजी में इसे (Aquarius) कहते हैं। यह 300 से 330 अंश तक स्थित है। धनिष्ठा नक्षत्र के अंतिम दो चरण चरण, शतभिषा नक्षत्र के चारों चरण तथा पूर्वाभाद्रपद नक्षत्र का प्रथम तीन चरण मिलकर कुंभ राशि का निर्माण करते हैं।

कुंभ राशि का स्वामी शनि है। इस राशि की आकृति कंधे पर घड़ा लिए पुरुष की है। इसका स्वभाव स्थिर है। कुंभ राशि की प्रकृति क्रूर है। इस राशि का तत्व वायु है, गुण तमोगुणी है जाति शूद्र है। यह दिन में बली होता है। यह पश्चिम दिशा की स्वामी है। यह राशि त्रिधातु प्रकृति की है। शरीर में पिंडली एवं आंतों पर होने वाले सभी क्रियाओं का असर इसी राशि से देखा जाता है। यह एक सजल राशि है।

इस राशि के जातकों में शिल्पचातुर्य, वैज्ञानिकता, अन्वेषणशीलता आदि गुण होते हैं। यदि कुंभ राशि में जन्म हो तो मनुष्य दानी, कृतज्ञ, हाथी घोड़ा और धन का स्वामी, शुभ दृष्टि एवं सदैव कोमल स्वभाव वाला, धन और विद्या हेतु प्रयत्नशील, पुत्र से युक्त, स्नेह युक्त, यशस्वी अपनी शक्ति से धन का उपभोग करने वाला और निर्भीक होता है। इस राशि वालों के लिए सूर्य बाधक ग्रह होता है। सिंह राशि बाधक राशि होती है और शुक्र इनके लिए शुभ ग्रह होते हैं।

सामान्य तौर पर इस बार कुंभ राशि वालों का राशिफल वर्ष अच्छा गुजरेगा। जनवरी से अप्रैल तक काफी अच्छा रहेगा अप्रैल के बाद उनके भाग्य में गिरावट देखी जा सकती है।

धन उपार्जन
जनवरी से अप्रैल तक आपके पास धन आने का अच्छा योग है। इसके अलावा जून, जुलाई और दिसंबर में भी धन लाभ होने की उम्मीद है। राहु के धन भाव में होने के कारण कई बार आता हुआ धन भी आपके हाथ से जा सकता है। अतः धन को रोकने के लिए विशेष परिश्रम आपको कई बार करने पड़ेंगे। उपाय- घर से निकलने के पहले अपने माता पिता का आशीर्वाद अवश्य प्राप्त करें।

कैरियर
इस वर्ष आपको कैरियर के लिए बहुत सावधान रहने की आवश्यकता है। आपको अपने कार्य क्षेत्र में कई बार असफलताओं का सामना करना पड़ सकता है। आपके करियर के लिए मई, जून, जुलाई, अगस्त, नवंबर और दिसंबर के महीने बहुत महत्वपूर्ण हैं। इस समय का आपको सदुपयोग करना चाहिए। आपको अपने अधिकारियों से व्यर्थ का वार्तालाप नहीं करना चाहिए। वाद विवाद नहीं करना चाहिए अन्यथा आपको दंड भी मिल सकता है। उपाय- आपको चाहिए कि आप शनिवार के दिन शनि मंदिर में जाकर शनि देव की आराधना करें।

भाग्य
इस वर्ष भाग्य आपको बहुत ज्यादा मदद या बहुत ज्यादा परेशानी नहीं देगा। आप जितना परिश्रम करेंगे उतने का फल आपको निश्चित रूप से प्राप्त होगा, भाग्य की वजह से ना तो वह फल रहेगा और ना ही घटेगा। इसके उपरांत भी अप्रैल, सितंबर और अक्टूबर के महीने में भाग्य से आपको मदद मिलेगी। उपाय- हीरे या अमेरिकन डायमंड की अंगूठी पहने।

परिवार
अप्रैल के बाद आपके माता जी के स्वास्थ्य में थोड़ी कमी आएगी परंतु पिताजी का स्वास्थ्य निरंतर अच्छा रहेगा माता जी का स्वास्थ्य मई और जून के महीने में ठीक रहेगा। इसके अलावा माता जी का स्वास्थ्य अप्रैल, सितंबर और अक्टूबर के महीने में भी ठीक-ठाक रहेगा। पिताजी का स्वास्थ्य जून के महीने में खराब हो सकता है। कृपया जून के महीने में पिताजी का विशेष रूप से ध्यान रखें। भाई बहनों के साथ आपके संबंध सामान्य तौर पर ठीक-ठाक रहेंगे। उपाय- मंगलवार को हनुमान जी के मंदिर में जाकर हनुमान चालीसा का कम से कम पांच बार पाठ करें। इसके अलावा प्रतिदिन विष्णु सहस्त्रनाम का जाप करें।

स्वास्थ्य
इस वर्ष आपका स्वास्थ्य सामान्य तौर पर ठीक रहेगा। अक्टूबर, नवंबर और दिसंबर के महीने में आपको ब्लड प्रेशर, ब्लड ग्लूकोज या ब्लड संबंधी कोई और बीमारी हो सकती है। अप्रैल के उपरांत आपको फेफड़ों में या पेट के किसी अंग में शिकायत हो सकती है। उपाय- आपको चाहिए कि आप शनिवार के दिन दक्षिण मुखी हनुमान जी के मंदिर में जाकर कम से कम 3 बार हनुमान चालीसा का जाप करें।

व्यापार
जनवरी से अप्रैल तक आपको व्यापार में लाभ होगा। अप्रैल के उपरांत आपके खर्चों में वृद्धि होने के कारण व्यापार में लाभ की मात्रा में कमी आएगी। अप्रैल, मई, जून, जुलाई तथा दिसंबर के महीने में आपके पास अच्छी मात्रा में धन आ सकता है। इस धन के लिए आपको काफी प्रयास भी करना पड़ेगा। उपाय- आपको चाहिए कि आप प्रतिदिन राम रक्षा स्त्रोत का जाप करें गुरुवार को मंदिर में जाकर पीली वस्तुओं का दान करें। इसके अलावा आपको चाहिए कि आप पुखराज भी धारण करें।

विवाह
अगर आप अविवाहित हैं तो इस वर्ष आपकी कुंडली के गोचर में जनवरी से अप्रैल तक विवाह के अच्छे योग हैं अगर आपकी दशा अंतर्दशा अच्छी है तो इस समय आपका विवाह तय हो सकता है या हो सकता है। इसके अलावा मार्च और अगस्त में भी विवाह के योग हैं। उपाय- आपको चाहिए कि आप हर शनिवार को दक्षिण मुखी हनुमान जी के मंदिर में जाकर कम से कम सात बार हनुमान चालीसा का जाप करें।

मकान, कार, जमीन
इस इस वर्ष आपके पास मकान आदि खरीदने का कोई विशेष अच्छा योग नहीं है। परंतु मई महीने से आपके द्वारा इस तरह की खरीदी के योग बन सकते हैं। मई और जून के महीने में आप निश्चित रूप से अपने सुख संबंधी कोई ना कोई उपकरण की खरीदारी करेंगे। उपायए आपको चाहिए कि आप गरीब लोगों को चावल का दान दें।

वार्षिक उपाय
अपने संपूर्ण कष्टों के निवारण के लिए आपको चाहिए कि आप इस वर्ष भगवान शिव का जल और दूध से महीने के प्रथम सोमवार को अभिषेक करें।

टॉप न्यूज