नागालैंड को फ्लिपकार्ट ने बताया भारत से बाहर, उठी देशद्रोह का मामला दर्ज करने की मांग

ई-कामर्स कंपनी फ्लिपकार्ट ने भारत के अभिन्न राज्य नागालैंड को देश के बाहर बता दिया। जिस पर कड़ी आपत्ति दर्ज कराते हुये कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स के राष्ट्रीय महामंत्री प्रवीण खंडेलवाल ने सरकार से फ्लिपकार्ट के खिलाफ तत्काल देशद्रोह की कार्रवाई करने की मांग की है.

कैट ने कहा कि वो इस गंभीर मामले को केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के सामने उठाएगा. वहीं उस ट्वीट को डिलीट कर देने से फ्लिपकार्ट को माफी नहीं मिल सकती है. भारत में रहकर देश के एक राज्य को देश से बाहर बताना एक अक्षम्य अपराध है, जिसके खिलाफ कानून के तहत कार्रवाई होनी चाहिए.

उन्होंने कहा कि आज फ्लिपकार्ट ने नागालैंड को भारत के बाहर का हिस्सा बताया है, कल वो लेह लद्दाख को भी भारत के बाहर का हिस्सा कह सकते हैं। फ्लिपकार्ट के बयान ने भारत की संप्रभुता को चुनौती दी है, जिसे बर्दाश्त नहीं किया जा सकता है।

उल्लेखनीय है कि कुछ दिनों पहले नागालैंड के एक ग्राहक को जवाब देते हुए फ्लिपकार्ट के आधिकारिक ट्विटर हैंडल से कहा गया कि इसके लिए हमें क्षमा करें. हम हमारे साथ खरीदारी में आपकी रुचि की सराहना करते हैं. हालांकि हम भारत के बाहर सेवाएं प्रदान नहीं करते हैं.

हालांकि सोशल मीडिया में फ्लिपकार्ट का ये ट्वीट वायरल होते ही फ्लिपकार्ट टीम ने एक दिन बाद माफी मांग ली. फ्लिपकार्ट की ओर से कहा गया कि पहले अनजाने में हुई गलती के लिए हमें बेहद खेद है. हम नागालैंड के क्षेत्रों सहित पूरे देश में सेवाभाव सुनिश्चित करने का प्रयास करते हैं. हम आपके साथ जुडऩे और वर्तमान में उपलब्ध विकल्प प्रदान करने में खुश हैं.