एक साल से पेंशन के लिए भटक रही मृत कोरोना योद्धा की पत्नी, प्रकरण में बार-बार आपत्ति लगा रहे अधिकारी

मध्यप्रदेश लघु वेतन कर्मचारी संघ विभागीय समिति अध्यक्ष प्रमोद कुमार ने जारी विज्ञप्ति में बताया है कि मृत्यु अथवा सेवानिवृत्ति उपरांत सयुंक्त संचालक कोष एंव लेखा जबलपुर के वेतन अनुमोदन का कोई महत्त्व नहीं रहा है।

ऐसा ही एक प्रकरण सामने आया है, जिसमें नेताजी सुभाष चन्द्र बोस मेडिकल कॉलेज के सयुंक्त संचालक अधीक्षक कार्यालय में पदस्थ कोराेना योद्धा टेलीफोन अटैडेण्ट स्व. भूपेन्द्र विदेही, जिनकी एक वर्ष पूर्व इलाज के दौरान मृत्यु हो गई थी, तब से मृतक की आश्रित पत्नी अपनी पेंशन के लिए सयुंक्त संचालक कोष एंव लेखा कार्यालय के चक्कर काट रही है।

स्थानीय कार्यालय द्वारा संज्ञान में लाया गया है कि संभागीय पेंशन कार्यालय में पदस्थ सहायक पेंशन अधिकारी द्वारा संयुक्त संचालक कोष एवं लेखा जबलपुर के अनुमोदन की सील को गलत व त्रुटिपूर्ण बताते हुये बार-बार आपत्तियां लगाई जा रही हैं, जबकि उक्त अनुमोदन को संयुक्त संचालक कोष एवं लेखा द्वारा सही यथावत बताया जा रहा है।

ऐसे में दोनों कार्यालयों में आपसी समन्वय की कमी के कारण मृत कर्मचारी की आश्रित पत्नि परेशान हो चुकी है। लघु वेतन कर्मचारी संघ ने संभागीय पेंशन अधिकारी को पत्र लिखकर चेतावनी दी है कि दस दिवस के अदंर निराकरण न होने पर संभागीय पेंशन कार्यालय का घेराव कर आंदोलन किया जायेगा।